टर्नकी क्रियान्वयन

42 से अधिक देशों में अपने ग्राहकों को दूरसंचार, सूचना प्रौद्योगिकी और वास्तुशिल्प व सिविल के विभिन्न प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में सफल परामर्श प्रदान करने के अलावा, टी सी आई एल के पास टर्नकी परियोजनाओं को शुरु से लेकर यानि परियोजना के विचार या उसकी संकल्पना के स्तर से लेकर परियोजना के प्रचालन अथवा कमिशनिंग तक की पूरी अवधि के मजबूत परियोजना प्रबंधन की क्षमता है। कुवैत में खाड़ी युद्ध के बाद यथाशीघ्र संचार प्रणालियों की पुनःस्थापना और अफ्गानिस्तान में नेटवर्क प्रणालियों की मरम्मत का कार्य टी सी आई एल द्वारा टर्नकी परियोजनाओं के कार्यान्वयन की क्षमता का प्रमाण है। र प्रणालियों की पुनःस्थापना और अफ्गानिस्तान में नेटवर्क प्रणालियों की मरम्मत का कार्य टी सी आई एल द्वारा टर्नकी परियोजनाओं के कार्यान्वयन की क्षमता का प्रमाण है।

दुनिया भर में दूरसंचार क्षेत्र में वायरलाइन प्रौद्योगिकियों में गिरावट आने के बाद, टी सी आई एल ने सफलतापूर्वक विभिन्न वायरलैस प्रौद्योगिकी क्षेत्रों जैसे डब्ल्यू एल एल/जी एस एम (नेपाल में डब्ल्यू एल एल कार्य, भूटान में जी एस एम नेटवर्क का कार्य), सेटलाईट और माईक्रोवेव, सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र (नैशनल इंटरनेट बैकबोन, किसान कॉल सैंटर) और सिविल व वास्तकला (सूडान इलैक्ट्रॉनिक सिटी, साईबर पार्क, अल्जीरिया नैशनल हाईवे परियोजना) आदि जैसे विविधतापूर्ण क्षेत्रों में सफलतापूर्वक स्थापित कर लिया है।

घाना और जिंम्बावे में 50 लाख डॉलर तक के की परियोजनाओं के निष्पादन व प्रबंधन की क्षमता टी सी आई एल की एक प्रमुख सामर्थ्य है। टी सी आई एल ने तेजी से बदलते तकनीकी परिवेश में उबरने के क्षमता के चलते और अपनी जनशक्ति के माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी व दूरसंचार के सभी क्षेत्रों में अपनी तकनीकी क्षमता को निर्मित किया है। ये उपलब्धियां रणनितिक गठबंधनों, परियोजना निष्पादन क्षमता, प्रशिक्षण और दूरसंचार क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा का सामना करने के लिए जरुरी मजबूत इच्छाशक्ति के कारण ही हासिल हो पाईं हैं।

भले ही विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में कार्य करते हुए दूरसंचार डोमेन टी सी आई एल की पहचान है, किंतु इसके अलावा पोस्ट और टेलीग्राफ, पुलिस व रक्षा, इ-गवर्नेस, बैंकिंग व बीमा, तेल व बिजली के क्षेत्र में परियोजनाओं के सफलतापूर्वक निष्पादन के द्वारा विशेषज्ञता भी हासिल की है।

मुख्य पृष्ठ |   वापस