संयुक्त उद्यम


सहायक कंपनियां
टीसीआईएल ओमान एल एल सी

इस सहायक कंपनी, टी सी आई एल का इक्विटी स्टेक 70 प्रतिशत है और मैसर्स मुस्तफा सुल्तान इंटरप्राईज़ेज एल एल सी में 30 प्रतिशत था। समीक्षाधीन वर्ष के दौरान, मैसर्स एमएसएफ ने मैसर्स राष्ट्रीय टेलीफोन सर्विसेज़ कंपनी एलएलसी ओमान को अपनी हिस्सेदारी बेच दी । तद्नुसार, एनटीएस के साथ एक नया संयुक्त समझौता क्रियान्वित किया गया है।

तामिलनाडू टेलीकम्युनिकेशन्स लि. (टी टी एल)

टीसीआईएल ने टेलीकॉम केबल विनिर्माण के क्षेत्र में अपनी गतिविधियों में विविधता लाने के क्रम में वर्ष 1988 में तमिलनाडू औद्योगिक विकास निगम (टी आई डी सी ओ) के साथ मिल कर एक संयुक्त उद्यम कंपनी का गठन किया। आगे चल कर जापान की कंपनी मैसर्क फुजीकुरा भी एक तकनीकी हिस्सेदार बन गई जिसने टी टी एल में निवेश किया और एक संयुक्त उद्यम कंपनी बन गई। बाद में मसौदा पुनर्वास योजना के अनुसार मंजूरी दे दी और टी सी आई एल का टी टी एल में स्टेक बढ़ कर 49 प्रतिशत हो गया। टीटीएल एक सूचीबद्ध कंपनी है। यहां तक कि पुनर्वास योजना के कार्यान्वयन के बाद भी, कंपनी के प्रदर्शन में कोई सुधार नहीं आया। वर्ष के दौरान कंपनी मुख्य रूप से बीएसएनएल के आदेश के साथ ही अन्य ग्राहकों से कुछ छोटे आदेश निष्पादित करती रही। वर्ष 2013-14 के दौरान, कंपनी का पण्यावर्त 138 मिलियन रुपए रहा और कंपनी को 102 मिलियन रुपए का नुकसान हुआ।

टी सी आई एल बीना टोल रोड़ लिमिटेड

टीसीआईएल बीना टोल रोड लि. टी सी आई एल की एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है और वर्ष 11.07.2012 में बीना-कुरवई-सिरोंज टोल रोड़ के नाम के साथ इस कंपनी को डिसाईन, निर्माण, वित्त, प्रचालन व स्थानांतरण (डीबीएफओटी) के आधार पर स्थापित किया गया। कंपनी को अनन्तिम पूर्णता का प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ है और अप्रैल 2014 से टोल इकट्ठा करना शुरू किया गया है।

टी सी आई एल लखनादोन टोल रोड़ लिमिटेड

टीसीआईएल को प्रतिस्पर्धी बोली के तहत निर्माण, प्रचालन व स्थानांतरण आधार पर मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम द्वारा लखनादोन-घनसौर सड़क परियोजना के निर्माण के लिए एक अनुबंध से सम्मानित किया गया था। एम पी आर डी सी की आवश्यकता के अनुसार, एक विशेष प्रायोजन वाहन का गठन किया जाना आवश्यक था। तदनुसार दिनांक 21-08-2013 को टी सी आई एल लखनादोन टोल रोड़ लि. नाम से कंपनी का गठन किया गया। यह टी सी आई एल के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। सड़क का निर्माण कार्य जोरों पर है और इसके दिसंबर 2014 तक पूरे होने की संभावना है।

संयुक्त उद्यम कंपनियां
टी बी एल इंटरनैशनल लिमिटेड (टीबीएल)

टीसीआईएल ने 44.94 शेयरधारिता होने के कारण इस कंपनी में 8.37 मिलियन रुपये का निवेश किया है। अन्य शेयरधारक जैसे टी बी एल इंडिया एल एल सी के इसमें 44 प्रतिशत और डी एस एस इंटरप्राईज़ेज के 15.1 प्रतिशत शेयर इस कंपनी में हैं। टी बी एल द्वारा निष्पादित बड़ी परियोजनाओं में पैन अफ्रीकी ई-नेटवर्क टेली मेडिसिन परियोजना और दूरसंचार सॉफ्टवेयर परियोजनाओं का निष्पादन शामिल है। कंपनी ने पिछले वर्ष के 14.26 मिलियन रुपए के पण्यावर्त के मुकाबले में इस वर्ष 26.22 मिलियन रुपए का पण्यावर्त प्राप्त किया है। पिछले वर्ष के 3.28 मिलियन रुपए के मुकाबले इस वर्ष कंपनी को 6.02 मिलियन रुपए का कर पश्चात लाभ भी हुआ है।

भारती हैक्साकॉम लिमिटेड

भारती हैक्साकॉम एक अन्य सहायक कंपनी है जिसका गठन वर्ष 1995 में राजस्थान राज्य और उत्तर-पूर्व के राज्यों में सैल्युलर मोबाईल सेवाओं को प्रचालन के लिए किया गया था। वर्तमान में, टी सी आई एल और भारती एयरटेल लिमिटेड की 30:70 के अनुपात में बी एच एल में शेयरधारिता है। टीसीआईएल ने चरणबद्ध तरीके से बीएचएल में रुपये 1,062 करोड़ का निवेश किया है। इस वर्ष 2013-14 एक अन्य वर्ष है जब कारोबार और लाभ दोनों के मामले में प्रदर्शन में लगातार वृद्धि हुई है। कंपनी ने पिछले वर्ष के 37,859 करोड़ रुपए के मुकाबले इस वर्ष 41,364 मिलियन रुपए की पण्यावर्त हासिल किया और पिछले वर्ष के 5,821 मिलियन रुपए के मुकाबले में इस वर्ष का कर पश्चात लाभ भी 6,036 मिलियन रुपए रहा। बीएचएल ने कंपनी की प्रदत्त पूंजी पर 20% @ लाभांश भी घोषित किया। 31.03.2014 तक, कंपनी के 19,054,804 ग्राहकों में मोबाइल सेवा के 19,017,216 ग्राहक और ब्रॉडबैंड और टेलीफोन सेवाओं के 37,588 ग्राहक शामिल हैं।

टी सी आई एल सऊदी कंपनी लिमिटेड

टी सी आई एल सऊदी कंपनी लिमिटेड की स्थापना सऊदी अरब में विभिन्न दूरसंचार परियोजनाओं को कार्यान्वित करने के लिए 1993 में की गई थी। भारत सरकार ने नेस्मा समूह से शेयरों के का 60% शेयरों के अधिग्रहण के टीसीआईएल के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इन शेयरो के अधिग्रहण के पूरा होन के बाद टी एस सी एल आपकी कंपनी की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी बन जाएगी।

यूनाईटेड टेलीकॉम लि.

टी सी आई एल ने महानगर टेलीफोन निगम लि.(एम टी एन एल)विदेश संचार निगम लि.(वी एस एन एल)तथा नेपाल वेंचर्स प्रा. लि.(एन वी पी एल) के सहयोग से युनाइटेड टेलीकॉम लि.नामक संयुक्त उद्यम की स्थापना की है। कंपनी को नेपाल में लोकल लूप में बेतार सेवाओं के लिए सी डी एम ए आधारित बुनियादी दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने के लिए लाइसेंस प्रदान किया गया है। इस कंपनी में टी सी आई एल की शेयरधारिता 26.66 है। वर्तमान में यह कंपनी नेपाल में बुनियादी मोबाइल, एनएलडी, आईएलडी और डेटा सेवाएं प्रदान कर रही है। यू टी एल जुलाई 2014 में 9वां राईट इश्यू लेकर आया। हालांकि पूंजी की कमी के चलते, टी सी आई एल की सदस्यता में गिरावट आती गई। संयुक्त उद्यम भागीदारों के साथ विचार विमर्श किया जा रहा है ताकि यूटीएल की लंबी अवधि की वित्त पोषण आवश्यकताओं को पूरा करने और नेटवर्क विस्तार की योजना को पूरा करने के लिए एकीकृत लाईसेंस के अधिग्रहण की क्षमता हासिल की जा सके। वर्ष के दौरान, कंपनी का पण्यावर्त 242.7 मिलियन रुपए रहा और कंपनी ने 276.96 मिलियन रुपए की हानि दर्ज की।

टीसीआईएल ने आई सी एस आई एल में इक्विटी की तुलना में 36 लाख रुपए का निवेश किया था। दिल्ली राज्य औद्योगिक एवं विकास निगम के प्रमुख शेयरधारक के रूप में कंपनी का प्रचार-प्रसार किया गया था। आई सी एस आई एल एक आईएस/आईएसओ 9001:2008 प्रमाणित कंपनी है और यह दिल्ली सरकार और अन्य सरकारी विभागों के लिए हार्डवेयर और अन्य कंप्यूटर बाह्य उपकरणों की आपूर्ति के क्षेत्र में परियोजनाओं को क्रियान्वित कर रही है। कंपनी नेटवर्किंग और सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में भी कई उच्च तकनीकी परियोजनाओं का निष्पादन कर रही है। वर्ष के दौरान कंपनी ने लगातार अपने प्रदर्शन में सुधार करते हुए अपने कार्य क्षेत्र का विस्तार किया है। पिछले वर्ष के 527.21 मिलियन के पण्यावर्त के मुकाबले इस वर्ष 2013-14 के दौरान कंपनी का पण्यावर्त 632.56 मिलियन रुपए रहा। पिछले वर्ष के 14.25 मिलियन रुपए का कर पश्चात लाभ भी इस वर्ष बढ़ कर 19.39 हो गया। कंपनी ने प्रदत्त पूंजी में से 20% का लाभांश घोषित किया है।


मुख पृष्ठ |   वापस